10+ short poem on 15 august in hindi

 जैसा की आप सभी को पता ही है 15 अगस्त हमारे लिए कितनी खुशी का दिन है आप सब जानते ही हैं कि हमारा देश 15 अगस्त को आजाद हुआ था आज हम अंग्रेजों से आजाद हुए थे गांधी जी की कड़ी मेहनत के कारण तो उससे पहले हम बंदिश में थे अंग्रेजों की उन्होंने हम पर काफी के साथ जुल्म किया लेकिन गांधी जी की मेहनत और लगन की वजह से हम एक बार फिर से आजाद ने और हमने अपने हिंदुस्तान को डिजिटल हिंदुस्तान बनाया और आप सभी को पता ही है 15 अगस्त आने की बारी है कुछ टाइम बाद 15 अगस्त है तो आप भी कुछ पोयम बगैरा सर्च करते होंगे 15 अगस्त के लिए आप अगर अपने स्कूल के लिए 15 अगस्त के लिए पोयम सर्च कर रहे हैं तो आप एकदम बहुत शानदार प्लेस पर आ चुके हैं आपको यहां पर इमेज ओं के साथ दी गई हैं पोयम्स




हेलो दोस्तों अगर आप लोग की सर्च कर रहे हैं " स्वतंत्रता सेनानियों पर कविता " आजादी पर हिंदी कविता " देशभक्ति मुक्तक इन हिंदी " वतन पर कविताएं " देशप्रेम पर कविता " देश के सिपाही पर कविता " Independence Day Speech poem " Short poem on Independence Day for school students " short poem on 15 august in hindi " तो आप एक बहुत ही शानदार प्लीज पर आ चुके इस आर्टिकल में हमने आपको इमेज ओं के साथ बॉयल दी गई है और आपको इमेज ओं का डाउनलोड लिंक भी दिया गया तो आप उन पर क्लिक करके आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं 


Note

दोस्ती आपको ये बात जानना जरूरी है आपको जो इस आर्टिकल में इमेजे दी गई है वह इमेजे आप को ठीक से दिखाई नहीं देंगे ऐसी काफी सारी दिक्कतें हैं जिनकी वजह से यह इमेजिन नहीं दिखाई देती है तो इन इमेज ओं का हमने आपको डाउनलोड बटन दे दिया है तो आपको जो भी इमेज पसंद आती है आप उस पर डाउनलोड बटन पर क्लिक कर कर उसको अपनी गैलरी में डाउनलोड कर सकते हैं




भारत देश हमारा प्यारा
सारे विश्व में हैं न्यारा।
अलग अलग हैं यहाँ रूप रंग

पर सभी एक सुर में गाते।
झेंडा ऊँचा रहे हमारा

हर परदेश की अलग जुबान।
पर मिठास की उनमे शान

अनेकता में एकता पिरोकर।
सबने मिल जुल कर देश संवारा

लगा रहा हैं भारत सारा
हम सब एक हैं का नारा ।।




हम बच्चे हँसते गाते हैं|
हम आगे बढ़ते जाते हैं|

पथ पर बिखरे कंकड़ काँटे,
हम चुन चुन दूर हटाते हैं|

आयें कितनी भी बाधाएँ,
हम कभी नही घबराते हैं|

धन दोलत से ऊपर उठ कर,
सपनों के महल बनाते हैं|

हम ख़ुशी बाँटते दुनिया को,
हम हँसते और हँसाते हैं|

सारे जग में सबसे अच्छे,
हम भारतीय कहलाते हैं|



चिश्ती ने जिस ज़मीं पे पैग़ामे हक़ सुनाया,
नानक ने जिस चमन में बदहत का गीत गाया,
तातारियों ने जिसको अपना वतन बनाया,
जिसने हेजाजियों से दश्ते अरब छुड़ाया,
मेरा वतन वही है, मेरा वतन वही है॥

सारे जहाँ को जिसने इल्मो-हुनर दिया था,
यूनानियों को जिसने हैरान कर दिया था,
मिट्टी को जिसकी हक़ ने ज़र का असर दिया था
तुर्कों का जिसने दामन हीरों से भर दिया था,
मेरा वतन वही है, मेरा वतन वही है॥

टूटे थे जो सितारे फ़ारस के आसमां से,
फिर ताब दे के जिसने चमकाए कहकशां से,
बदहत की लय सुनी थी दुनिया ने जिस मकां से,
मीरे-अरब को आई ठण्डी हवा जहाँ से,
मेरा वतन वही है, मेरा वतन वही है॥

बंदे किलीम जिसके, परबत जहाँ के सीना,
नूहे-नबी का ठहरा, आकर जहाँ सफ़ीना,
रफ़अत है जिस ज़मीं को, बामे-फलक़ का ज़ीना,
जन्नत की ज़िन्दगी है, जिसकी फ़िज़ा में जीना,
मेरा वतन वही है, मेरा वतन वही है॥

गौतम का जो वतन है, जापान का हरम है,
ईसा के आशिक़ों को मिस्ले-यरूशलम है,
मदफ़ून जिस ज़मीं में इस्लाम का हरम है,
हर फूल जिस चमन का, फिरदौस है, इरम है,
मेरा वतन वही है, मेरा वतन वही है॥




कस ली है कमर अब तो, कुछ करके दिखाएंगे,
आजाद ही हो लेंगे, या सर ही कटा देंगे
हटने के नहीं पीछे, डरकर कभी जुल्मों से
तुम हाथ उठाओगे, हम पैर बढ़ा देंगे
बेशस्त्र नहीं हैं हम, बल है हमें चरख़े का,
चरख़े से ज़मीं को हम, ता चर्ख़ गुंजा देंगे
परवाह नहीं कुछ दम की, ग़म की नहीं, मातम की,

है जान हथेली पर, एक दम में गंवा देंगे
उफ़ तक भी जुबां से हम हरगिज़ न निकालेंगे
तलवार उठाओ तुम, हम सर को झुका देंगे
सीखा है नया हमने लड़ने का यह तरीका
चलवाओ गन मशीनें, हम सीना अड़ा देंगे
दिलवाओ हमें फांसी, ऐलान से कहते हैं
ख़ूं से ही हम शहीदों के, फ़ौज बना देंगे
मुसाफ़िर जो अंडमान के, तूने बनाए, ज़ालिम
आज़ाद ही होने पर, हम उनको बुला लेंगे ||



देश मेरा यह सबसे न्यारा
कितना सुंदर, कितना प्यारा|

पर्वत ऊँचे ऊँचे इसके
करते हैं रखवाली|

लंबी लंबी नदियाँ इसकी
फैलाएँ हरियाली|

देश मेरा यह सबसे न्यारा
कितना सुंदर, कितना प्यारा|

झर-झर करते निर्मल झरने
गीत ख़ुशी के गाएं|

सर सर करती हवा चले तो
पेड़ खड़े लहराए…

देश मेरा यह सबसे न्यारा
कितना सुंदर, कितना प्यारा|

बारी-बारी रितुए आतीं
अपनी छटा दिखलाती

फल-फूलों से भरे बगीचे
चिड़ियाँ मीठे गीत सुनाती,

देश मेरा यह सबसे न्यारा
कितना सुंदर, कितना प्यारा|

कितना प्यारा देश हमारा
सबको है यह भाता,

इस धरती का बच्चा-बच्चा
गुन इसके है गाता,

देश मेरा यह सबसे न्यारा
कितना सुंदर, कितना प्यारा



जब भारत आज़ाद हुआ था|
आजादी का राज हुआ था||

वीरों ने क़ुरबानी दी थी|
तब भारत आज़ाद हुआ था||
 
भगत सिंह ने फांसी ली थी|
इंदिरा का जनाज़ा उठा था||

इस मिटटी की खुशबू ऐसी थी
तब खून की आँधी बहती थी||

वतन का ज़ज्बा ऐसा था|
जो सबसे लड़ता जा रहा था||

लड़ते लड़ते जाने गयी थी|
तब भारत आज़ाद हुआ था||

फिरंगियों ने ये वतन छोड़ा था|
इस देश के रिश्तों को तोडा था||

फिर भारत दो भागो में बाटा था|
एक हिस्सा हिन्दुस्तान था||

दूसरा पाकिस्तान कहलाया था|
सरहद नाम की रेखा खींची थी||

जिसे कोई पार ना कर पाया था|
ना जाने कितनी माये रोइ थी,
ना जाने कितने बच्चे भूके सोए थे,
हम सब ने साथ रहकर
एक ऐसा समय भी काटा था||

विरो ने क़ुरबानी दी थी
तब भारत आज़ाद हुआ था||



आज तिरंगा फहराता है अपनी पूरी शान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

आज़ादी के लिए हमारी लंबी चली लड़ाई थी।
लाखों लोगों ने प्राणों से कीमत बड़ी चुकाई थी।।
व्यापारी बनकर आए और छल से हम पर राज किया।
हमको आपस में लड़वाने की नीति अपनाई थी।।


हमने अपना गौरव पाया, अपने स्वाभिमान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

गांधी, तिलक, सुभाष, जवाहर का प्यारा यह देश है।
जियो और जीने दो का सबको देता संदेश है।।
प्रहरी बनकर खड़ा हिमालय जिसके उत्तर द्वार पर।
हिंद महासागर दक्षिण में इसके लिए विशेष है।।

 
लगी गूँजने दसों दिशाएँ वीरों के यशगान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

हमें हमारी मातृभूमि से इतना मिला दुलार है।
उसके आँचल की छैयाँ से छोटा ये संसार है।।
हम न कभी हिंसा के आगे अपना शीश झुकाएँगे।
सच पूछो तो पूरा विश्व हमारा ही परिवार है।।

विश्वशांति की चली हवाएँ अपने हिंदुस्तान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।




आपसी कलह के कारण से।
वर्षों पहले परतंत्र हुआ।। 
पन्द्रह अगस्त सन् सैंतालीस।
को अपना देश स्वतंत्र हुआ।।
 
उन वीरों को हम नमन करें।
जिनने अपनी कुरबानी दी।।


निज प्राणों की परवाह न कर।
भारत को नई रवानी दी।। 
 
उन माताओं को याद करें।
जिनने अपने प्रिय लाल दिए।।

मस्तक मां का ऊंचा करने।
को उनने बड़े कमाल किए।।
बिस्मिल, सुभाष, तात्या टोपे।
आजाद, भगत सिंह दीवाने।।
सिर कफन बांधकर चलते थे।
आजादी के यह परवाने।।
 
देश आजाद कराने को जब।
पहना केसरिया बाना।
तिलक लगा बहनें बोली।
भैया, विजयी होकर आना।।
 
माताएं बोल रही बेटा।
बन सिंह कूदना तुम रण में।।
साहस व शौर्य-पराक्रम से।
मार भगाना क्षणभर में।।
 
दुश्मन को धूल चटा करके।
वीरों ने ध्वज फहराया था।।
जांबाजी से पा विजयश्री।
भारत आजाद कराया था।।
 
स्वर्णिम इतिहास लिए आया।
यह गौरवशाली दिवस आज।।
श्रद्धा से नमन कर रहा है।
भारत का यह सारा समाज।।
 
जय हिन्द हमारे वीरों का।
सबसे सशक्त शुभ मंत्र हुआ।।
पन्द्रह अगस्त सन् सैंतालीस। 
को अपना देश स्वतंत्र हुआ। 



देखो बच्चों यह झंडा प्यारा,
तीनों रंगों का मेल सारा|

रहे सदा यह झंडा ऊंचा,
आकाश को रहे यह छूता|

सदा करो तुम इसका मान,
कभी ना करना इसका अपमान|

झंडा ही है देश की शान,
बना रहे है यह सदा महान||





भारत देश हमारा प्यारा।
सारे विश्व में हैं न्यारा।
अलग अलग हैं यहाँ रूप रंग।
पर सभी एक सुर में गाते।
झेंडा ऊँचा रहे हमारा।

हर परदेश की अलग जुबान।
पर मिठास की उनमे शान।
अनेकता में एकता पिरोकर।
सबने मिल जुल कर देश संवारा।

लगा रहा हैं भारत सारा।
‘हम सब एक हैं’ का नारा।


मुझे उम्मीद है आप से भी कोई आर्टिकल काफी ज्यादा पसंद आया होगा अगर आपकी आर्टिकल पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करें आप समझ ही सकते हैं कि हम लोग कितनी मेहनत करते हैं आर्टिकल को लिखने में तो अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सएप फेसबुक इंस्टाग्राम टि्वटर बगैरा पर शेयर जरूर करें 

Please don't spam
Thank you for your feedback

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post